Wednesday, January 28, 2009

मूलवासियों के बेहतर भविष्य के लिये राज्यभर में आंदोलन होगा - शैलेंद्र महतो

झारखंड के नेता और पूर्व सांसद शैलेंद्र महतो और सालखन मुर्मू ने "झारखंड आदिवासी मूलवासी मोर्चा" के गठन का ऐलान किया है। श्री महतो ने कहा कि अलग राज्य बनने के बावजूद झारखंड के मूल वासिंयों के साथ न्याय नहीं हुआ। श्री महतो ने कहा कि विकास के नाम पर विनाश ही हो रहा है झारखंड में। विकास के अलावा डोमिसाइल और विस्थापन के मुद्दे पर आंदोलन छेड़ा जायेगा। श्री महतो और श्री मुर्मू की मुलाकात श्री मुर्मू के निवास पर हुई। दोनो ही नेताओं ने कहा कि झारखंड गठन का सपना चूर-चूर हो गया। भूमि पूत्रों के साथ न्यया नहीं हो रहा है। स्थिति यहां तक पहुंच गई है कि चतुर्थ वर्ग की नौकरियां भी नहीं दी जा रही है।

श्री महतो ने कहा कि मूल वासियों के हक की लड़ाई तेज की जायेगी। इसके लिये राज्य भर में आंदोलन छेड़े जायेंगे। दोनो नेताओं ने कहा कि राज्य के गठन के बाद जितने भी मुख्यमंत्री हुए उन्होंने ने कभी भी झारखंड के विकास की परवाह नहीं की। यहां तक की बुनियादी मुद्दे की ओर भी ध्यान नहीं दिया। श्री महतो और श्री मुर्मू दोनो हीं नेताओं ने कहा कि मूलवासियों को लेकर जल्द ही राज्यभर में आंदोलन छेड़ा जायेगा।

Monday, January 26, 2009

झारखंड के आदिवासी नेता

सबसे पहले आप सभी लोगों को गणतंत्र दिवस की बधाईयां। झारखंड को देश का रूर या आधार कहा जाये तो गलत नहीं होगा। एक देश या राज्य को आगे बढाने के लिये जो चाहिये वह सब कुछ झारखंड में है। चाहे कोयला, लोहा यूरेनियम, मिथेन गैस का मामला हो या बिजली बनाने के लिये तेज बहाव वाले झरने या वातावरण को प्रदषूण मुक्त रखने वाले घने जंगल या खेती की जमीन, सब कुछ है। झारखंड को संक्षेप में कैसे जाना जाये, इसे बेहतर तरीके से पेश किये हैं सुप्रीम कोर्ट के वकील राज किशोर महतो। श्री महतो पूर्व सांसद भी रह चुके हैं। वर्तमान में भाजपा में हैं और विधायक हैं सिंद्री विधान सभा से। झारखंड मे राष्ट्रपति शासन लागू हो चुका है। विधान सभा निलंबित है। श्री महतो का झारखंड और इसके आदिवासी नेताओं पर एक रिपोर्ट -

It has to be seen as to whether the newly created Jharkhand State is demographically a tribal state. The concept of ' tribal' i. e. Jan Jati has come from the British rule. Mr. H. H. Rizley, a noted anthropologist had made out a survey in, the than Bengal and Orissa province during 1880-85, regarding the demography of the Chhota Nagpur Plato extended over present Bihar, Jharkhand, Bengal and Orissa and has prepared a report which was published as ' Tribes of Bengal and Orissa' in 1891. He has found thirteen major communities having their own way of life, their own social customs, own law of inheritance and property, which were totally different from the people living in the plane lands of India. These communities were categorized as ' Tribes' or 'Aboriginals', whose thinking and philosophy of life, beliefs regarding religion were different. These tribes were mainly Munda, Uraon, Ho, Khariyas, Pahariyas, Kurmi, Khond, Gond, Pan etc. which constituted more than seventy percent population of the chhota Nagpur plato.

Another anthropological survey was again conducted in 1930-31 by Mr. W. C. Leasy. In this survey also these thirteen communities were termed as 'Tribes' or aboriginals of the Plato. Two notification were gazzetted by British government, one in 1913 and another in 1931, in which these communities were termed as tribes or aboriginals and were kept beyond the preview of certain provision of the Indian Succession Act 1925, which provision retails to the law of inheritance of property and customary rights.

It has to be remembered that in 1908,"Chota Nagpur Act, 1908" was enacted to protect the lands and customary rights of these tribes and other backward class and Scheduled Cstes of the Chotta Nagpur region. It has to be remembered that in 1912, Bihar was separated from Bengal province and in 1936 Orissa was separated from Bihar and there after India became independent in 1947.

So far as these two notifications are concerned, they were adopted like any other notifications, rules, regulation etc. under the provisions of the constitution of India, surprisingly a great mistake was done while the list of Scheduled Tribes for Bihar was published in which Kurmi Mahto tribe was not included in the list for no reason. Some members of Lok Sabha, like Sri Katzoo and some others pointed out this mistake, but in spite of attention drawn by the then Prime Minister, the mistake could not be rectified.

The made a major change in the percentage of population of tribes in the South Bihar region of Bihar i. e. Jharkhand region , as the Kurmi mahto tribes constitute 25%-26% of the total population of the Jharkhand region of south Bihar, i.e. the newly Jharkhand State.

Now let us see the tribal leadership in Jharkhand movement. The demand for separate state of Jharkhand starting during 1915-1920 by a group of educated Christians of St. Columbus Church of Hazaribag, under the banner of "Chotta Nagpur Unnati Samaj" and raise the issue of separate state of whole Chhota Nagpur Plato, extending to Bengal, Orissa, Bihar and Madhaya Pradesh. In 1938, Sri Jaipal Singh Munda educated in Britain, another Christian raised the issue under the banner of "Adibashi Mahasabha' which was restricted only to Adivashi population.

In 1948 Jharkhand Party was formed by Jaipal Singh Munda and this time non tribals are also invited in its fold. In 1952 general assembly election in Bihar, thus party bagged 33 seats and become opposition party in Bihar.

However, even than state Re-organization Commission rejacted the demand in 1954-55 on some wrong grounds, one of which wasthat the movement was led by Only tribes, constituting only 30% population of the region.

The report of the SRC gave massive blow to the issue and Subsequently Jaipal Sing joined Congress with some of his major associates and became a Deputy Minister in Bihar government. The movement was scattered and the result of the movement of Jharkhand Party culminated in a mere post of deputy minister.

However, Shri N E Horo a close, associate of Jaipal Singh, continued the Jharkhand Party and did not join congress. Some others Parties like birsa Seva Dal under leadership of Mr. Mozesh Gudia an others like Bagun somrai and Ram Dayal Munda also continued the issue, but did not make any remarkable base.

There was a gape of about fifteen years since the report of SRC and in the year 1971, a new party named as "Jharkhand Mukti morcha" emerged and registered in 1973, having its president Shri Binod Bihari Mahto, advocate, and a kurmi Mahto tribe and experience leftist of Bihar and Shri Shibu Soren as its General Secretary. Nirmal Mahto became President in 1983 and after the murder of Nirmal Mahto, Shibu Soren became the president in 1987 and Shailendra Mahto became General Secretary. Binod Bihari Mahto remained as guardian of the party.

Binod Bihari Mahto widened the base of Jharkhand movement, by including comrade A.K.Roy and Sri Mutatedhari Singh the leading trade unions of the coal fields, and all sections of the people, even so called outsiders joined hands with Binod Bihari Mahto.

After the demise of Binod Bihari Mahto, JMM splited inti two groups J.M.M.(S) and J.J.M(Mardi), having two MPs Sri Krishna Mardi and Shri Raj Kishor Mahto(Son of Binod Bihari Mahto) and nine MLAs in Mardi fraction.

This separation was on the issue of formation of Jharkhand Area Autonomous Council, which was supported by JMM(S), Lalu Prasad and Congress, mainly opposed by JMM(Mardi) which continue the issue of separate state. Even in a meeting with Hon'ble president of India, Raj Kishore Mahto(MP) and Krishna Mardi(MP) did not support the JAAC and pleaded for a separate state on 07.03.1993.

The story of JMM bribery case is well known in which four MPS of Soren group were sent to Tihar jail.

It is also well known that BJP and SAMATA party the newly created N.D.A. passed the Bill of Jharkhand state in 2000, when Shri Raj Kishore Mahto was the National secretary of SAMTA Party. After formation of Jharkhand on 15-11-2000, Babulal Marandi became 1st Chief Minister and then in 2005, Shibu Soren became Chief Minister for nine days, than Arjun Munda became Chief Minister from NDA and Madhu Kora became chief Minister and the after Shibu Soren again became Chief Minister 3-4 months and lost the Tamar bye-elections, while remaining CM.

All are tribes, rather members of ST, but still there is no stability in the Government.

What is the demographical situation in Jharkhand now a days, has to be seen. These is only 25-26% of ST, ten percent of SC and remaining are OBCs and general according to 2001 census. Surprisingly there are 31 divisions amongst ST population. Kurmi Mahto Tribe is no longer a ST which along constitutes 25-26% of total population according to 2001 cencus.

The leadership of ST has badly failed in Jharkhand now and position is that the Jharkhand is no longer a tribal state demographically.

Monday, January 19, 2009

झारखंड में राष्ट्रपति शासन

झारखंड के राज्यपाल सैयद सिब्ते रजी की सिफारिश पर आखिरकार झारखंड में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया। विधान सभा को बर्खास्त करने की वजाय निलंबित रखा गया है। जो कि एक संवैधानिक प्रक्रिया है। यदि विधान सभा के निलंबन के दौरान कोई नई गणित बन जाये और सरकार बनने की नौबत हो तो सरकार गठन किया जा सकेगा। लेकिन आज की हालात को देखकर यही लगता है कि राज्य में किसी भी पार्टी की सरकार बनने के आसार कम ही है।

यूपीए में मुख्य रूप से तीन राजनीतिक दले हैं – झामुमो, कांग्रेस और राजद। इसके अलावा निर्दलीय विधायक। निर्दलीय विधायकों और झामुमो में छतीस के आंकड़े हैं वे एक दूसरे को समर्थन देने को तैयार नहीं है। तमाड़ विधान सभा चुनाव में शिबू सोरेन के हारने के बाद श्री सोरेन ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा तो दे दिया लेकिन वे अपने हीं पार्टी के चंपई सोरेन को मुख्यमंत्री बनाने पर अड़ गये। श्री सोरेन के इस मांग से न तो कांग्रेस पार्टी सहमत दिखी और न हीं राजद। ऐसे में एक ही चारा था राज्य में राष्ट्रपति शासन।

बीजेपी और जनता यू ने पहले हीं राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग कर रखी है। पहले निर्दलीय के बल पर ये लोग सरकार चलाकर अपनी फजीहत करा चुके हैं। इतना हीं मुख्यमंत्री पद को लेकर भाजपा में विद्रोह भी हो चुका है। वामपंथी पार्टियां नये चुनाव की मांग पहले से ही कर रही है।
बहरहाल अब सभी पार्टियां नये सिरे से विधान सभा चुनाव की तैयारियों में जुट जायेगी।

Monday, January 12, 2009

नया मुख्यमंत्री या राष्ट्रपति शासन इसको लेकर यूपीए में मदभेद

झारखंड के मुख्यमंत्री शिबू सोरेन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उनके इस्तीफे के साथ हीं राजनीतिक गतिविधियां भी तेज हो गई है। विपक्षी दलों ने जहां राज्य में राष्ट्रपति शासन की मांग की है वहीं सत्तारूढ गठबंधन राष्ट्रपति शासन सहित सभी विकल्प के मुद्दों पर भी विचार कर रही है। सत्तारूढ गठबंधन यूपीए की बात। इसमें चार खेमे हैं 1) झारखंड मु्क्ति मोर्चा 2) कांग्रेस 3) राष्ट्रीय जनता दल और 4) निर्दलीय।

1) झारखंड मुक्ति मोर्चा – झामुमो के नेता शिबू सोरेन(गुरूजी) हैं। तमाड विधान सभा के उपचुनाव में हार जाने के बाद इनपर भारी दबाव था कि मुख्यमंत्री पद से जल्द इस्तीफा दे। चुनाव परिणाम 8 जनवरी को आया था लेकिन राजनीतिक चहल कदमी के चलते उन्होंने आज यानी 12 जनवरी को इस्तीफा दिया। साथ हीं उन्होंने कहा है कि अगला मुख्यमंत्री उन्हीं के पार्टी का होगा। वे चंपाई सोरेन को विधायक दल का नेता भी चुन चुके हैं और उन्हें अगले मुख्यमंत्री के रूप में प्रोजेक्ट भी कर रहे हैं। लेकिन गुरूजी के बातों से कांग्रेस, राजद और निर्दलीय विधायक सहमत नहीं हैं। उधर गुरूजी भी अड़े हैं कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू हो अन्यथा उनकी ही पार्टी से मुख्यमंत्री बनाया जाये।

2) कांग्रेस – कांग्रेस पार्टी दो भागों में बंटी हुई है। राज्य ईकाई का मानना है कि इस बार काग्रेस से ही राज्य का मुख्यमंत्री बनना बेहतर होगा। लेकिन केन्द्रीय ईकाई राष्ट्रपति शासन के पक्ष में है। उनका मानना है कि लोक सभा चुनाव के साथ साथ विधान सभा चुनाव भी हो जाये तो बेहतर होगा। और उम्मीद है कि झारखंड में एक स्थायी सरकार बन सकेगी। लेकिन वे इसके लिये यूपीए की एकता को बिखेरना नहीं चाहती है इसलिये राजनीतिक गतिविधियों पर बारीकी से नजर बनाये हुए है।

3) राजद – राजद नेता लालू प्रसाद यादव राज्य में वैकल्पिक सरकार के पक्ष में हैं लेकिन वे झामुमो नेता शिबू सोरेन की बातों से सहमत नहीं हैं। जानकार बताते हैं कि राजद नेता निर्दलीय विधायक मधु कोडा को फिर मुख्यमंत्री बनाना चाहते हैं। श्री कोडा राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। जब वे मुख्यमंत्री थे तब श्री सोरेन ने यूपीए नेताओ पर दबाव डालकर मधु कोडा को हटा कर खुद मुख्यमंत्री बने थे।

4) निर्दलीय - झारखंड की सरकार निर्दलीय विधायकों के बल पर ही चल रही है। जो निर्दलीय विधायक आज यूपीए में हैं एक समय था कि जब वे एनडीए की सरकार चला रहे थे। निर्दलीय विधायक मधु कोडा के समर्थन में हैं। एनोस एक्का और उनके पार्टी के राजा पीटर जिसने श्री सोरेन को हराया वे कभी झामुमो के नाम पर सहमत नहीं होंगे।

बहरहाल झारखंड में कुर्सी की लड़ाई तेज हो गई है। इसके बावजूद कांग्रेस, झामुमो और राजद आने वाला चुनाव मिलकर ही लड़ना चाहते हैं। इनके हर नेता का कहना है कि पिछला लोक सभा चुनाव मिलकर लडे तो झारखंड से भाजपा का सफाया हो गया। बाद में अलग अलग लड़े इसलिये भाजपा विधान सभा चुनाव में बड़ी पार्टी बन उभरी और यूपीए को बहुमत नहीं मिला। इस बार वे यूपीए में बिखराव नहीं चाहते। लेकिन आज अह्म सवाल यही है कि झारखंड का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? या राष्ट्रपति शासन लागू होगा और नये सिर से चुनाव होंगे।

Thursday, January 8, 2009

आखिरकार मुख्यमंत्री गुरूजी चुनाव हार गये

झारखंड के मुख्यमंत्री शिबू सोरेन(गुरूजी) चुनाव हार गये हैं। उन्हें मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा देना पड़ेगा। झारखंड पार्टी के राजा पीटर ने मुख्यमंत्री सोरेन को आठ हजार से अधिक मतो से हरा दिया। तीसेर स्थान पर ऑल झारखंड स्टूडेंट्स यूनियन के उम्मीदवार विजय सिंह मानकी रहे। चौथे स्थान पर एनडीए उम्मीदवार वंसुधरा मुंडा रही।

तमाड़ में झारखंड मुक्ति मोर्चा और यूपीए उम्मीदवार शिबू सोरेन का हारना तय माना जा रहा था और वे हार गये। तमाड विधान सभा के उपचुनाव लड़ रहे शिबू सोरेन के पक्ष में सिर्फ एक ही बात थी कि वे राज्य के मुख्यमंत्री हैं। इसके अलाव उनके पक्ष में और कुछ भी नहीं था। श्री सोरेन चुनाव क्यों हारे ? – 1.तमाड़ विधान सभा क्षेत्र शिबू सोरेन का गढ कभी नहीं रहा। 2. यह गढ था झारखंड पार्टी का। शिबू सरकार में मंत्री रहे एनोस एक्का ने शिबू सोरेन को समर्थन देने के वजाय अपना प्रत्याशी उतारा राज पीटर को और राजा पीटर विजयी हुए। 3. शिबू सोरेन जिस प्रकार से मधु कोडा को मुख्यमंत्री पद से हटाने के लिये दबाव डाले और खुद मुख्यमंत्री बने इससे यूपीए के लोग ही नाराज थे। 4. जनता दल यूनाइटेड के विधायक रमेश सिंह मुंडा की हत्य़ा के बाद हीं यह सीट खाली हुआ था और एनडीए ने उम्मीदवार बनाया रमेश सिंह मुंडा की पत्नी वंसुधरा मुंडा को लेकिन एनडीए उम्मीदवार वंसुधरा हार गयी।

बहरहाल, गुरूजी चुनाव हार गये हैं। ऐसे में अधिक संभावना है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया जाय।

Tuesday, January 6, 2009

शिबू सोरेन हारे तो झारखंड में राष्ट्रपति शासन

तमाड़ विधान सभा का उपचुनाव 5 जनवरी को शांति पूर्वक संपन्न हो गया। यह चुनाव सुर्खियों में रहा और अब सबकी नजर 8 जनवरी को होने वाली वोटो की गिनती पर टीकी है। चुनाव में राज्य के मुख्यमंत्री शिबू सोरेन विजयी होते हैं या नहीं, इसी पर सबकी नजर है। यदि शिबू सोरेन चुनाव हारते हैं तो राज्य की राजनीति में उथल-पुथल तय माना जा रहा है।

इस चुनाव में मुख्य मुकाबला यूपीए उम्मीदवार और झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेता शिबू सोरेन, राजग उम्मीदवार और जनता दल यूनाईटेड की वंसुधरा मुंडा, झारखंड पार्टी के राजा पीटर और आजसू के उम्मीदवार विजय सिंह मानकी के बीच हुए । विजय सिंह मानकी विजयी दौड़ में तो नहीं हैं लेकिन उनके पक्ष में मतदान जरूर पड़े। वंसुधरा मुंडा, रमेश सिंह मुंडा की पत्नी है। रमेश मुंडा तमाड से हीं विधायक थे। इनकी हत्या के बाद यह सीट खाली हुआ था। यह टक्कर में जरूर है लेकिन चुनाव के बाद जो खबरे आ रहीं हैं उसके अनुसार मुख्य मुकाबला मुख्यमंत्री शिबू सोरेन और झारखंड पार्टी के राजा पीटर के बीच है।

तमाड़ विधान सभा सीट के सभी 247 बूथों पर सुरक्षा के तगड़े इतजाम किये गये थे। इनमें से 180 बूथ को अतिसंवेदनशील और 67 सीटों को संवेदनशील घोषित किया गया था। लेकिन मतदान शांतिपूर्ण रहा। 1 लाख 59 हजार मतदाताओं वाले विधान सभा सीट के लिये हो रहे चुनाव में लगभग 58 प्रतिशत मतदाताओं ने हिस्सा लिया।

बहरहाल, आठ जनवरी को ही मालूम चल पायेगा कि झामुमो नेता शिबू सोरेन यानी गुरूजी मुख्यमंत्री पद पर बने रहेगें या नहीं। ऐसे आमधारणा यही है कि वर्तमान मुख्यमंत्री उपचुनाव में नहीं हारते लेकिन यह राजनीति है। यदि गुरूजी चुनाव जीतते हैं तो सरकार चलती रहेगी और हारते हैं तो अधिक संभावना यही है कि राज्य में राष्ट्रपति शासन लागू कर नये सिरे से चुनाव कराये जायेंगे। क्योंकि यहां कि राजनीति काफी उठापटक की दौर से गुजर रही है।

Sunday, January 4, 2009

सांप्रदायिकता क्या है ?

देश में कई विषय ऐसे हैं जिनपर कई मत हैं। उन्हीं में से एक हैं सांप्रदायकिता। सांप्रदायिकता को लेकर देश को कई बार समस्याओं का सामना करना पड़ा। ऐसे में धनबाद जिले के सिंद्री क्षेत्र से भाजपा विधायक राजकिशोर महतो ने सांप्रदायिता पर अपने विचार मुझे भेजे हैं जिसे में प्रकाशित कर रहा हूं। श्री महतो सुप्रिम कोर्ट के वकील भी हैं। उन्होंने एक नये दृष्टिकोण के साथ लिखा है भारत के सांप्रदायिकता(Communalism in India) पर। श्री महतो इससे पहले झारखंड मुक्ति मोर्चा से गिरिडीह से सांसद भी रह चुके हैं।

The word “Commune” is the origin for the word community. Caste system in India strengthened the feeling of a community being separate from other communities. The boarder line between caste, races, and creeds became clearer with passage of time for some reason or the other.

The existence of community was accepted by Indian society and this caste system and its evils became even traditional. Simultaneously a struggle was also started and continued by some great Mahatmas & social reformers against the evils of caste system.
Than came up the era of invention of religions Sanatan Dharma, Islam, Christianity and other religions come in to existence gradually and another types of communities were created.
Before Independence of India from British Rule, the Hindus, Muslims, Sikh, Christians all fought for the independence of India irrespective of caste creed, race and religion, all participated in the strangle.

But, at the time of independence the Muslim leader pleaded for a separate Pakistan, Sikhs leader pleaded for a separate Khalistan. India was divide in Pakistan and Hindustan in 1947. although the people in general never anticipated this change.

Many of the Muslim families went to Pakistan and many of the Hindu families went to Hindustan. It is surprising that most Indians did not leave Pakistan and most Muslim did not leave Hindustan. Even after sixty one years of separation, these people do not want to leave their homes, hearths, i.e. village, towns where they had been living since the time of their fore fathers. It is still unlikable for than to part with the soil where they had born and brought up in both the new territories.

The caste system in India, became the foundation of caste-politics in India. The concept of communism its principal theory of class struggle could not be successful in India, became of this caste system which has divided Indian society in many divisions, which subsequently has classified the society in to oppressed class i.e. Dalit class and Higher caste or Higher class concentration of many and power centralized in the hands of Higher caste people.

The caste system played a vital role in Indian Politics in so much so that many states in India has political parties at top Which germinated from caste politics and are still continuing.
The constitution of India although speaks of equality in all sphere of life and says that no body will be discriminated on the basis of caste creed, race and religion, Our constitution provides for and gives permission to divide the society on the basis of the caste, creed, race & religion for certain purpose i.e. for their development. Unfortunately, no permission has been given to divide the society on the basis of economic criteria.

During these sixty one years the so called leader of the oppressed communities have compelled their communities to develop hatred towards so call effluent people i.e. Higher communities and the leaders of Minority community ( Muslims & Christian etc.) against the so called major community Instead of love and affection with each other.
A feeling of fear and threat and uncertainty has also grown up in the so called forward classes of the county and majority community.

Now, as I have said that the communal hatred based on religion has become more intense and harmful, then caste based hatred. Now a days so many organizations have sprung up which are blaming each other to be religiously communal. Now a days the caste line politics and propagations or feeling of separation on caste line is not being called as communal, but the word “Communal” has became synonymous with religion Communalism.

When leaders like Laloo Prasad makes formula like “Mai” and “Bhura Bal & of karo” he is not defamed as communal. When leader like Mayabati speaks of Dalits only and abuses other higher class people as “Trazu, Talwar & Tilak”, she is not leveled as communal. It recently the Chief Minister of Jharkhand Shibu Soren says on caste line that Manjhis & Mains” combine, they will rule Jharkhand, Shri Soren is not blamed for being communal.

Surprising is that the B.J.P. and R.S.S. are always being blamed and leveled and defamed as being communal if they speak of Rastriyata or Hindus Rastriyata without going in to caste line or religion line of. After all what is a country ? A territorial division in which certain people live and reside. What is “Rastriyata” then it is the feeling of love to the soil, the spirit of the country. Surprisingly enough the formation of boundary lines of a Pakistan & Hindustan has been on the basis of this Rastiyata. Who are “Hindus”. Every body knows that the people living around Indus River had been called Hindus. This region extends to far off places and covers large area.
Then if R.S.S. / B.J.P. says that every body borne in this region is Hindu irrespective of caste, creed, race and religion, where is the wrong. Why persons are afraid to sing the “Vandemataram” Creating love and affection to the soil i.e. country i.e. Matribhumi. The “Hindutawa” is the Rastriyata of Hindustan therefore .

R.S.S has been saying so since before Independence of India since 1928 till date.
The Honorable supreme court of India in its decising dated 11/12/1995 has accepted that “Hindutwas” is the “Rastriyata” of Hindustan.