Thursday, April 17, 2008

सभ्यता और संस्कृति के रक्षक भी है मुकेश अंबानी

आईपीएल के मैच धूमधड़ाके शुरु होने से पहले मुकेश अंबानी ने अपनी टीम मुंबई इंडियन आईपीएल से जुडे खिलाडियों और अन्य लोगो को एक पार्टी दी। पार्टी की सबसे बड़ी खासियत थी सादगी और शालीनता। पार्टी में मुकेश अंबानी के परिवार सहित आये लोगो में कई महिलायें थी। लेकिन उन्हें देखकर लगा कि आज भी देश की संस्कृति और मान मर्यादा सुरक्षित है। पवित्र है। पश्चिम सभ्यता सार्वजनिक रुप से देश की सभ्यता को नहीं तोड़ पायेगी।
जिस प्रकार से आधुनिकता और स्वतंत्रता के नाम पर भड़कीली कपड़े पहनने का प्रचलन चल पड़ा है और टीवी के माध्यम से प्रचार हो रहा है उससे लगा था कि भारतीय समाज का पतन जल्द ही हो जायेगा। जो लोग जितने कम कपड़े पहन कर निकलते, लोग उसे आधुनिक मानने लगे थे। समाज को नेतृत्व देने वाले लोग जो करेंगे बाकि की जनता भी देर सबेरे उसी राह पर चल पड़ेगी। ऐसा हो भी रहा है।
मुकेश अंबानी के परिवार और उनके नेतृत्व में आये लोगो ने जिस शालिनता का परिचय दिया वह काबिले तारीफ है। क्योंकि मुकेश अंबानी ऐसे मुकाम पर हैं जो कुछ वह करेंगें उसे अपनाने वाल एक नया वर्ग तैयार होगा। कहा जाता है सही दिशा मिले तो पैसा कमाना कठीन नहीं है रोटी कपड़ा और मकान के लिए। लेकिन चरित्र निर्माण करना बहुत बड़ी बात है। आज मुकेश अंबानी दोनो का ही नेतृत्व कर रहें है। धन के मामले में मुकेश दुनियां के सर्वोच्च पंक्ति में है। यह सभी लोग जानते हैं। यह जानकर भी काफी खुशी हुई कि सभ्यता, संस्कृति, सादगी और शालीनता के मामले में भी मुकेश अंबानी दुनिया के सर्वोच्च पंक्ति में है।
इनके अलावा दर्जन भर के बड़े घराने हैं जो सादगी, शालीनता और संस्कृति को निभाने वाले हैं जिनमें टाट, बिड़ला परिवार भी शामिल है। अंबानी, टाटा और बिड़ला आदि परिवार के पार्टियों के विडियो क्लिप समय समय पर सामने आते रहने चाहिये ताकि सादगी, शालीनता और सभ्य तरीके से पहनावे को बढावा मिले। इससे समाज का विकास होना तय हैं। जो थोड़े लोग समाज में गंदगी फैला रहें हैं उनपर काबू पाया जा सकेगा।